कार्बोनिक यौगिक(ORGANIC COMPOUNDS IN HINDI)

कार्बनिक यौगिक ( Organic Compounds in hindi )

कार्बनिक यौगिक ( Organic chemistry notes in hindi )

Table of Contents


कुछ प्रमुख कार्बोनिक यौगिक निम्नलिखित हैं –
A.-

मेथेन ( Methane )

अणुसूत्र – CH4
संरचना सूत्र –

इसको मार्स गैस भी कहते हैं |

बनाने की विधि (Method to make Methane )-

प्रयोगशाला में मेथेन गैस सोडियम एसिटेट को सोडा लाइम ( NaOH + CaO ) के साथ गर्म करके प्राप्त किया जाता है |
(image here )

भौतिक एव रासायनिक गुण ( Physical and Chemical Properties of Methane )-

1-यह रंगहीन , गंधहीन तथा स्स्वादहीन गैस है |

2- इसका गलनांक 90 K तथा क्वथनांक 111 K है |

3- यह जल की अपेक्षा कार्बोनिक विलायकों ( जैसे- एल्कोहाल , ईथर etc ) में अधिक विलेय होता है |

4-इसको जलाने पर यह कार्बोन डाई ऑक्साइड और जल बनती हैं |

CH4 + 2O2 &#8594 2H2O + CO2

5-नाइट्रिक अम्ल के साथ 400 &#8451 पर क्रिया करके नाइट्रो मेथेन व जल बनता है |

6- ऑक्सिजन की अनुपस्थिति में , मेथेन को 1000 &#8451 पर गर्म करने पर यह कार्बोन और हाइड्रोजन में टूट जाता है |

उपयोग ( Uses of Methane )-

1- इंधन के रूप में |

2- बैटरियों में |

3- मेथिल एल्कोहाल बनाने में |

4- फार्मेल्डीहाईड बनाने में |

5- टायर , स्याही इत्यादि बनाने में |

B.-

एथिलीन ( Ethylene )

अणुसूत्र – C2H4
संरचना सूत्र –

I.U.P.A.C Name – एथीन

बनाने की विधि ( Method to make Ethylene )-

एथिल एल्कोहल को सान्द्र सल्फ्युरिक अम्ल के साथ गर्म करने पर एथिल हाइड्रोजन सल्फेट ( C2H5HSO4 ) प्राप्त होता है , जिसको 100 &#8451 पर गर्म करने पर एथिलीन प्राप्त होता है |

C2H5OH + H2SO4 &#8594 C2H5HSO4 + H2O
C2H5HSO4 &#8594 H2SO4 + C2H4

भौतिक एव रासायनिक गुण ( Physical and Chemical Properties of Ethylene )-

1-यह रंगहीन तथा मीठी गंध वाली गैस है |

2- इसको अधिक सूंघने पर बेहोशी आ जाती है |

3- यह जल की अपेक्षा कार्बनिक विलायकों में अधिल विलेय है |

4- इसको जलाने पर CO2 और जल बनता है |

C2H4 + 3O2 &#8594 H2O + 2CO2

5- सल्फ्युरिक अम्ल के साथ क्रिया करके एथिल हाइड्रोजन सल्फेट बनाता है |

C2H4 + H2SO4 &#8594 C2H5HSO4

6- यह हैलोजन अम्लों ( जैसे- HCl , HI , HF etc.) के साथ क्रिया करके एथिल हैलाइड बनता है |

C2H4 + HCl &#8594 C2H5I

एथिलीन का उपयोग ( Uses of Ethylene )-

1- कच्चे फलों को पकाने में |

2- निश्चेतक ( बेहोशी की दवा ) के रूप में |

3- रबर और पोलीथिन बनाने में |

4- मस्टर्ड गैस बनाने में |

5- एथिल एल्कोहल बनाने में |


यह भी पढ़ें-


C.-

एथिल एल्कोहाल (Ethyl Alcohol )

अणुसूत्र – C2H5OH

संरचना सूत्र –

I.U.P.A.C Name- एथेनाल

बनाने की विधि ( Method to make Ethyl Alcohol )-

एथिल हैलाइड ( जैसे- C2H5I , C2H5Cl , C2H5Br etc. ) तथा कास्टिक सोडा या कास्टिक पोटाश के जलीय विलयन को गर्म करने पर एथिल एल्कोहाल प्राप्त होता है |

C2H5I + NaOH &#8594 C2H5OH + NaI

C2H5Br + KOH &#8594 C2H5OH + KBr

भौतिक एव रासायनिक गुण ( Physical and Chemical Properties of Ethyl Alcohol )-

1- यह रंगहीन तथा तेज गंध वाला द्रव है |

2- जल और कार्बोनिक विलायक दोनों में विलेय है |

3- यह अधिक विषैला है , तथा अधिक सेवन सेवन करने पर शारीरिक अंगो को क्षति पहुचता है |

4- सान्द्र सल्फ्यूरिक अम्ल की उपस्थिति में एथिल अल्कोहल को गर्म करने पर डाई एथिल ईथर बनता है |

5- फास्फोरस ट्राई क्लोराइड से क्रिया करके फास्फोरस अम्ल बनाता है |

3C2H5OH + PCl3 &#8594 3C2H5Cl + H3PO3

6- सोडियम से क्रिया करके सोडियम एथाक्साइड बनाता है तथा हाइड्रोजन गैस निकलता है |

2Na + C2H5OH &#8594 2C2H5ONa + H2

उपयोग ( Uses of Ethyl Alcohol )-

1- मदिरा के रूप में |

2- सिरका , एसिटिक अम्ल , ईथर इत्यादि बनाने में |

3- रबर , पेण्ट आदि बनाने में |

4- क्लोरोफार्म बनाने में |

5- कार्बोनिक विलायक के रूप में |

d.-

एसिटिक अम्ल (Acetic Acid )

अणुसूत्र – CH3COOH

संरचना सूत्र –

I.U.P.A.C Name- एथेनोईक अम्ल

बनाने की विधि ( Method to make Acetic Acid )-

सोडियम एसिटेट तथा सल्फ्यूरिक अम्ल को एक साथ गर्म करने पर एसिटिक अम्ल प्राप्त होता है |

2CH3COONa + H2SO4 &#8594 2CH3COOH + Na2SO4

भौतिक एव रासायनिक गुण ( Physical and Chemical Properties of Acetic Acid )-

1- यह रंगहीन व सिरके जैसी गंध वाला द्रव है |

2- यह जल तथा कार्बोनिक विलायकों में विलेय है |

3- इसको -47 &#8451 तक ठंडा करने पर बर्फ जैसा क्रिस्टलीय ठोस बन जाता है |

4- यह क्षारों से क्रिया करके लवन बनता है |

CH3COOH + NaOH &#8594 CH3COONa + H2O

5- सान्द्र सल्फ्यूरिक अम्ल की उपस्थिति में एल्कोहाल से क्रिया करके एस्टर बनाता है |

6- फास्फोरस पेंटा ऑक्साइड की उपस्थिति में एसिटिक अम्ल को गर्म करने पर इसका निर्जलीकरण हो जाता है |

उपयोग ( Uses of Acetic Acid )-

1- प्रयोगशाला में |

2- दवाओं (Medicines ) के निर्माण में |

3- सिरका के रूप में |

4- एस्टर बनाने में |

5- कृत्रिम रेशम बनाने में |


यह भी पढ़ें-


Tags- Organic chemistry notes in Hindi, organic compound notes in Hindi, कार्बनिक रसायन नोट्स हिन्दी में, कार्बनिक पदार्थ नोट्स , कार्बनिक यौगिक नोट्स हिन्दी में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *