संजय मिश्रा की जीवनी(Sanjay mishra biography in hindi)

<–meta tags–>

Sanjay Mishra biography in hindi(संजय मिश्रा की जीवनी )


Hi friens , hindi motivational और educational blog StudyTrac पर आपका स्वागत है , आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे कॉमेडी के बादशाह ‘संजय मिश्रा ‘ के बारे में |

जब बात बॉलीवुड के कॉमेडियन कलाकारों की होती है तो ‘संजय मिश्रा ‘ नाम बड़े सम्मान से लिया जाता है | वह एक ऐसे कलाकार हैं , जिन्होंने अपने दम पर अपनी पहचान बनाया है | उनकी एक्टिंग की तरह , उनकी बायोग्राफी भी काफी रोचक है और प्रेरणा से भरा हुआ है |

मैंने यह जानकारी इन्टरनेट से इक्कठा किया | और आशा करता हूँ आपको पसंद आएगा | तो चलिए पढ़ते हैं संजय के सफलता की कहानी हिंदी में –

संजय का जन्म 1963 में बिहार की राजधानी पटना में हुआ था | इनके पिता श्री शम्भुनाथ मिश्रा एक मशहूर पत्रकार थे | इनकी पढाई बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में हुई उसके बाद उन्होंने नेशनल ड्रामा स्कूल से एक्टिंग करना सिखा |

उन्होंने एक्टिंग की शुरुवात धारावाहिकों से किया , उसके बाद उन्होंने छोटी-छोटी फिल्मों में काम करने लगे | कुछ समय बाद अमिताभ बच्चन के साथ उन्होंने एक विज्ञापन में काम किया , यह पहला समय था जब उन्होंने किसी बड़े एक्टर के साथ परदे पर आये | उनके जीवन में सबसे दुर्भाग्य की बात यह थी की उन्होंने 100 से ज्यादा फिल्मों में काम किया और उनकी कोई पहचान भी नहीं बन पाई |

अपने पिता से उन्हें बहुत लगाव था , इसलिए जब उनके पिता का देहांत हुआ तब उन्होंने फिल्मों में करना छोड़ दिया और ऋषिकेश जाकर एक ढाबे में काम करने लगे | वहां सब्जियां काटते , खाना बनाते और लोगों को खिलाते उनका समय धीरे-धीरे बीतने लगा | उन्होंने फिल्मों में काम करने का आशा करना छोड़ दिया था , और अपनी जिंदगी से पूरी तरह से निराश हो चुके थे |

तभी उनकी जिंदगी में एक बहुत बड़ा परिवर्तन आया , और एक दिन उनके ढाबे पर जाने-माने निर्देशक रोहित शेट्टी पहुच गए चूँकि संजय रोहित की फिल्म गोलमाल में काम कर चुके थे इसलिए रोहित संजय को तुरंत पहचान गए | रोहित को उनकी हालात पर काफी अफ़सोस हुआ | उस समय रोहित अपनी फिल्म All the best पर काम कर रहे थे , उन्होंने संजय को उस फिल्म में काम करने के लिए राजी किया | और उसके बाद तो चमत्कार हो गया , फिल्म हिट हुई और संजय मिश्रा की जमकर तारीफ की गयी | उसके बाद से अब तक उन्होंने कई फिल्मों में काम किया और सभी फ़िल्में रहीं |

उनकी आने वाली फ़िल्में ‘बादशाहों’ तथा ‘गोलमाल’ है |

संजय मिश्रा की पत्नी का नाम किरण मिश्रा है तथा उनकी उनके दो बच्चे पल मिश्र तथा लम्हा मिश्र हैं | उनको आँखों देखी फिल्म के लिए फिल्मफेयर का बेस्ट एक्टर का अवार्ड भी मिल चुका है |

दोस्तों आपने देखा की संजय मिश्रा कैसे स्थिति से गुजर चुके हैं , संजय की यह बायोग्राफी इस बात को सिद्ध करती है की

“हमारे जीवन में कभी इतना बुरा समय नही आता की हम नयी शुरुवात ना कर सकें “

बस हमें प्रेरणा की जरुरत होती है | और इस पोस्ट के अंत में मैं बस इतना कहना चाहूँगा की सफल होने के लिए लक्ष्य का होना बहुत जरुरी है क्योंकि अगर हम लक्ष्य ही नहीं बनायेंगे , तो हमको पता कैसे चलेगा की हमको किधर जाना है और लक्ष्य के बिना हम इधर-उधर भटकते रहेंगे |

तो दोस्तों यह थी आज की पोस्ट, अगर आपको पसंद आया हो तो like बटन दबाइए और share कीजिये |
धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *