दुनिया के सात अजूबे(7 wonders of world)

दुनिया के सात अजूबे (Wonders of world in hidni)

दुनिया के सात अजूबे (Wonders of world)

General Knowledge 2018 in Hindi


प्रेरणादायक और ज्ञानवर्धक ब्लॉग StudyTrac पर आपका स्वागत है , इस पोस्ट में हम दुनिया के सात आश्चर्यजनक अजूबों के बारे में जानेगें | अगर आपको यह पोस्ट पसंद आये तो इसे share जरुर करें |
तो चलिए जानते हैं , दुनिया के अजूबों के बारे में |

1- TajMahal (ताजमहल)

दुनिया के सात अजूबों की श्रेणी में पहला नाम ताजमहल का आता है , यह उत्तर प्रदेश के आगरा में स्थित है | इसका निर्माण शाहजहाँ ने अपनी बेगम मुमताज महल की याद में कराया था | इसे बनाने में लगभग 21 वर्ष(1632 से 1653 ) लगे थे और इसके मुख्य वास्तुकार ‘उस्ताद अहमद लाहौरी ‘ थे |

चूँकि शाहजहाँ ने इसका निर्माण अपनी बेगम मुमताज की याद में कराया थे इसलिए पूरी दुनिया में इस इमारत को प्रेम का प्रतिक मन जाता है | ताजमहल में शाहजहाँ और उसकी बेगम मुमताज महल की कब्रें बनी हुई हैं |

समुद्र तट से इसकी उचाई 172 मीटर है , यह पूर्ण रूप से संगमरमर का बना हुआ है और इसकी बनाने की कला मुग़ल , भारतीय , फारसी तथा तुर्क की मिलीजुली कला है | ताजमहल देखने हर साल लगभग 50 लाख पर्यटक आते हैं , विदेशी पर्यटकों की पहली पसंद हमेशा ताजमहल ही होता है |

कुछ लोगों का मानना है की ताजमहल का निर्माण हिन्दू राजाओं ने किया था , लेकिन विशेषज्ञों ने यह बात मानने से पूर्ण रूप से इंकार कर दिया है |

2- Chichen Itza (चिचेन इत्ज़ा)

दुनिया के सात अजूबों में दूसरा नाम चिचेन इत्ज़ा का आता है , यह मैक्सिको में स्थित एक प्राचीन नगर है , जो माया सभ्यता पर आधारित है | इसका निर्माण 483 ई० में हुआ था , “चिचेन इत्ज़ा” का अर्थ होता है “कुएं के मुहाने पर जल के जादूगर ” | यह प्राचीन नगर हैं और ऐसा माना जाता है की जब वहां वर्षा नहीं होती थी तब वहाँ के लोग “चाक देवता” की पूजा करते थे और मानव बलि भी देते थे | और वर्षा होने लगती थी | पुरातत्व विशेषज्ञों को वहां से पूजा की सामग्री और मानव के कंकाल भी मिले हैं | यहाँ हजार स्तम्भ वाले योद्धा मंदिर भी स्थित है |

3- Cristo Redentor(क्राइस्ट द रिडीमर)

यह ब्राजील में कोकोर्वाड़ो पर्वत की चोटी पर स्थित ईसा मसीह की प्रतिमा है , इसकी ऊंचाई आधार सहित 130 फुट है | यह दुनिया का दूसरा सबसे ऊँचा प्रतिमा है | इसके निर्माण में 9 साल (1922 से 1931) और लगभग 2,50,000 अमेरिकी डॉलर लगे थे | कोकोवार्दो पर्वत की ऊंचाई 2,300 फुट है और वहां से पूरा शहर दिखाई देता है |

प्रतिमा के निर्माण में सोपस्टोन और कंक्रीट का उपयोग किया गया है | इस प्रतिमा को बनाने के लिए धन चंदा मांगकर इकट्ठा किया गया था | फरवरी 2008 में आकाशीय बिजली की वजह से प्रतिमा की कुछ अंगुलियाँ और सिर क्षतिग्रस्त हो गए थे , जिसे बाद में ठीक किया गया | इस प्रतिमा को देखने के हमेशा दर्शकों की भीड़ लगी रहती है |

4- Colosseo(कोलोसियम)

यह इटली की राजधानी रोम में स्थित है , इसका निर्माण 70 से 72 ई० में रोमन साम्राज्य द्वारा कराया गया था | उस समय इसका उपयोग मनोरंजन के लिए किया जाता था , इस ईमारत में केवल मनोरंजन के लिए इंसानों और जानवरों की जान ले लेना आम बात थी | इसमें इंसानों को खूंखार जानवरों से लड़ाया जाता था और ऐसा माना जाता है की इस तरह की लड़ाइयों में लगभग 10 लाख मनुष्य और 5 लाख पशु मारे गए |

इसका आकार अंडाकार हैं , उस समय इसमें 50 हजार व्यक्तियों के बैठने का स्थान था | इस समय भूकंप की वजह से इसके काफी भाग छतिग्रस्त हो गए हैं , लेकिन बचे हुए भागों को वहां की सरकार द्वारा पुनः मरम्मत कराकर दर्शकों के लिए खोल दिया गया है |


यह भी पढ़ें –

विश्व में सबसे बड़ा, ऊँचा और सबसे छोटा

पाच कारण जानिए आपको music क्यों सुनना चाहिए

धर्मेन्द्र की जीवनी (रेलवे कलर्क से सुपर स्टार बनने तक )

मिथुन चक्रवर्ती की जीवनी (खतरनाक नक्सलवादी से सुपर स्टार बनने तक )


5- The Great Wall of China(चीन की विशाल दीवार )

जैसा की नाम से ही प्रतीत हो रहा है , चीन की विशाल दीवार चीन में स्थित है , इसका निर्माण 220 से 206 ईसा पूर्व में चीन को उत्तरी हमलावरों से बचाने के लिए किया गया था | इसके निर्माण में लगभग 30 लाख लोगों ने अपना जीवन लगा दिया था |

चीन की विशाल दीवार दुनिया एकमात्र मानव निर्मित वस्तु है , जो अन्तरिक्ष से भी दिखाई देती है | यहाँ एक बात यह ध्यान देने योग्य यह है की इस दीवार को किसी एक शासक ने नहीं बनवाया है बल्कि इसे कई शासकों ने मिलकर बनवाया है और यह दीवार एक नहीं है बल्कि कई दीवारों को मिलकर बनी है | इस दीवार की लम्बाई लगभग 8,851 किलोमीटर है |

6- Machu Pikchu(माचू पिच्चू )

माचू पिच्चू का अर्थ “पुरानी चोटी ” होता है , और यह पेरू में स्थित है | इसकी समुद्र तट से उचाई 2.430 मीटर है | इसको “इन्काओं का खोया शहर ” भी कहा जाता है |

इसका निर्माण वर्ष 1430 में इन्काओं (वहां के शासक) द्वारा शुरू हुआ था , लकिन स्पेनियों ने उनके ऊपर आक्रमण करके अपना अधिकार कर लिया इसलिए इसका निर्माण बीच में रुक गया |

इसे जुलाई 2007 में विश्व के अजूबों में शामिल किया गया और अब यह एक पर्यटक स्थल है |

7- Petra (पेत्रा)

यह जॉर्डन में स्थित एक नगर है जो अपनी पहाडियों में बनी महलों की वजह से प्रसिद्ध है , यह ‘होर’ नामक पहाड़ी पर स्थित है | यह स्थान दुनिया के सबसे खुबसुरत स्थानों में भी स्थित है , और इस वजह से यहाँ दर्शकों की काफी भीड़ रहती है |

तो यह था , दुनिया के सात नए अजूबों की जानकारी , आशा करता हूँ आपको पसंद जरुर आई होगी |

आप इस तरह की जानकारियां अपने ईमेल इनबॉक्स में पाने के लिए हमारे ब्लॉग की सदस्यता free में ले सकते हैं |

धन्यवाद !

tags-सात अजूबे के फोटो,भारत के सात अजूबे,भारत के सात अजूबे के नाम,दुनिया के 7 अजूबे के नाम,7 ajuba ke naam hindi me,सात अजूबे इन वर्ल्ड,दुनिया का पहला अजूबा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *