Lesson 1 : The Enchanted Pool

The Enchanted Pool – C. Raj Gopalachari

UP Board 10th English BOOK lesson 1 The Enchanted Pool written by C. Raj Gopalachari. The Enchanted pool translation in Hindi | Class 10th थे एनचांटेड पूल समरी इन हिंदी | थे एनचांटेड पूल फुल स्टोरी इन हिंदी | थे एनचांटेड पूल स्टोरी इन हिंदी | the enchanted pool story in hindi | The Enchanted Pool Story in Hindi | रहस्यमयी तालाब | थे एनचांटेड पूल समरी इन हिंदी

PARA – 1

As he looked at their mighty limbs, now so helpless, he sadly wondered who could have been powerful enough to kill them. Then e too descended into pool, drawn to the water by an overpowering thirst. At once the voice without form warned.

Translation – जब उसने (युधिष्ठिर ने) उनकी (अपने भाइयों) की बलशाली भुजाओं को देखा, जोकि अब बहुत असहाय हो चुके थे, तब उन्हें दुःख भरा आश्चर्य हुआ की कौन इतना बलशाली हो सकता है, जो इन्हें मार दे | तब बहुत प्यास के कारण वह भी तालाब की ओर जाने लगे | तभी उस अदृश्य आवाज ने उनको चेतावनी दिया |

PARA – 2

“Your brothers died because they did not heed mu words. They tried to drink water without answering my questions. Do not follow them. Answer my questions first and then you can quench your thirst. This pool belongs to me.”

Translation – तुम्हारे भाई मर गए क्योंकि उन्होंने मेरी आवाज पर ध्यान नहीं दिया | और बिना मेरे प्रश्नों का उत्तर दिए हुए पानी पीने की कोशिश की | उनकी तरह मत बनो | पहले मेरे प्रश्नों का उत्तर दो, उसके बाद तुम अपनी प्यास बुझा सकते हो | यह तालाब मेरे अधिकार में है |

PARA – 3

It did not take Yudhishthira a moment to understand that these could be no other than the words of a Yaksha and guessed what had happened to his brothers. It took him no time to see a possible way of bringing them back to life. He said to the bodiless voice: “Please ask your questions.”

Translation – युधिष्ठिर को यह समझते देर नहीं लगी की यह किसी और की नहीं बल्कि एक यक्ष की आवाज है और उन्होंने अनुमान लगा लिया की मेरे भाइयों के साथ क्या हुआ होगा | और उन्हें यह भी समझने में देर नहीं लगी की उन्हें जीवित कैसे किया जा सकता है | तब उन्होंने उस अदृश्य आवाज से कहा : “कृपया अपने प्रश्न पूछिए” |

PARA – 4

The voice put questions rapidly one after another.
“What rescues man in danger?”
“Courage”
“By the study of which science does man become wise?”
“Not by studying any – ‘Shastra’ does man become wise. It is by association with the great in wisdom that he get wisdom.”
The Yaksha asked, “What is swifter than the wind?”
“Mind.”

Translation – तब उस आवाज ने एक के बाद एक लगातार प्रश्न पूछना शुरू कर दिया |

खतरे में इन्सान को क्या बचाता है ?”

साहस”

कौनसा ग्रन्थ पढ़कर इन्सान बुद्धिमान बन सकता है ?”

इन्सान किसी भी ग्रन्थ को पढ़कर बुद्धिमान नहीं बन सकता, बल्कि वह बुद्धिमता के संगत में रहकर बुद्धिमान बन सकता है |”

यक्ष ने पूछा, “हवा से भी तेज क्या है ?”
मस्तिष्क”

PARA – 5

“What is more faded than a dried straw?”
“A sorrow – stricken heart.”
“What be friends a traveler ?
“Learning”
“Who is the friend of one who stays at home?”
“The wife.”
“Who accompanies a man in death?”
“Dharma, that alone accompanies the soul in its solitary journey after death.”

Translation – सुखी घास से भी मुरझाया हुआ क्या है ?”

दुःख से भरा हुआ ह्रदय”

एक यात्री का मित्र कौन होता है ?”

ज्ञान”

घर पर रहने वाले का मित्र कौन होता है ?”
पत्नी”

मृत्यु के समय आदमी का साथ कौन देता है ?”

धर्म ही एक ऐसी वस्तु है जो मृत्यु के बाद आत्मा के साथसाथ जाता है |”

PARA – 6

“Which is biggest vessel?”
“The earth, which contains all within itself, is the greatest vessel.”
“What is happiness?”
”Happiness is the result of good conduct.”
“What is that, by giving up which man becomes loved by all?”
“Pride, for if man gives up being proud, he will be loved by all.”
“What is the loss which yields joy and not sorrow?”
“Anger, if we give up being angry, we will no longer he subject to sorrow.”

Translation – सबसे बड़ा जलयान क्या है ?”
पृथ्वी, जो सबकुछ अपने अन्दर लिए हुए है, सबसे बड़ा जलयान है”

ख़ुशी क्या है ?”
ख़ुशी अच्छे आचरण का परिणाम है”

वह क्या है, जिसको छोड़ने पर इन्सान सबका प्यारा बन जाता है ?”

घमंड, अगर हम घमंड करना छोड़ दें तो सबसे प्यारे बन जायेंगे”

वह कौनसा घाटा है जो दुःख नही ख़ुशी देता है ?”
क्रोध, अगर हम क्रोधित होना छोड़ दे तो हम कभी भी दुखी नहीं होंगे”

PARA – 7

“What is that, by giving-up which a man becomes rich?”
“Desire. If man gives up being greedy, he will become wealthy.”
“What makes one a real ‘Bhahmana?’ Is it birth, good conduct, or learning? Answer decisively.”
“Birth and learning do not make one a Brahmana; good conduct alone does. However learned a person may be, he will not be a ‘Brahmana’ without giving up bad habits. Even though he may be learned in the four Vedas, a man of bad conduct falls to a lower class.”

Translation – वह क्या है, जिसको छोड़कर इन्सान धनि बन जाता है”

इच्छा, अगर इन्सान लालची बनना छोड़ दे तब वह धनी बन जायेगा |”

इन्सान को क्या असली ब्राहमण बनाता है, जन्म, अच्छा आचरण या ज्ञान ? निश्चय करके उत्तर देना”

जन्म या ज्ञान इन्सान को ब्राहमण नहीं बनाता है बल्कि अच्छा आचरण इन्सान को ब्राहमण बनाता है | ज्ञानी व्यक्ति बिना बुरा आचरण छोड़े ब्राहमण नहीं बन सकता | भले ही उसने चारो वेद पढ़ लिए हों | बुरे आचरण वाला व्यक्ति निम्न श्रेणी का होता है”

PARA – 8

“What is the greatest wonder in the world?”
“Every day men see creatures depart to Yama’s kingdom; and yet those who remain want to live forever. This truly is the greatest wonder.”
Thus, the Yaksha put many questions and Yudhishthira answered them all.

Translation – दुनिया का सबसे बड़ा आश्चर्य क्या है ?”

प्रतिदिन इन्सान लोगों को मरते हुए देखता है, उसके बाड़ भी वह हमेशा के लिए जीवित रहना चाहता है यह दुनिया का सबसे बड़ा आश्चर्य है”

इसी तरह यक्ष ने कई प्रश्नों को पूछा और युधिष्ठिर ने सभी का उत्तर दे दिया |

PARA – 9

In the end the Yaksha asked “O, King one of your dead brothers can now be revived. Who do you want to come back to life?”
It took Yudhishthira a moment to think and then he wished that the cloud-complexioned, lotus-eyed, broad-chested and long-armed Nakula, laying like a fallen ebony tree, might arise.

Translation – अंत में यक्ष ने पूछा, “राजा मरे हुए भाइयों में से कोई एक जीवित हो सकता है | तुम किसे जीवित करना चाहते हो ?

कुछ क्षण सोचकर युधिष्ठिर ने कहा की वह बादलरूपी , कमलनयनी, चौड़ी छाती वाला तथा लम्बी भुजाओं वाले नकुल, जो एक आबनूस की तरह गिरा हुआ है, को जीवित करना चाहते हैं |

PARA – 10

The Yaksha was pleased at this and asked Yudhishthira : “Why did you choose Nakula in preference to Bhima, who has the strength of sixteen thousand elephants? I have heard that Bhima is most dear to you. And why not Arjuna, whose strength in arms is your protection? Tell me why you choose Nakula rather than either of these two.”

Translation – इसपर यक्ष प्रसन्न हुआ और युधिष्ठिर से पूछा : “तुमने भीम की बजाय नकुल को क्यों चुना, जिसके पास 16 हजार हाथियों का बल है ? मैंने सुना है कि भीम तुमको बहुत प्यारा है | और अर्जुन को क्यों नहीं, जिसके भुजाओं का बल तुम्हारा सुरक्षा कवच है ? मुझे बताओ तुमने उन दोनों के बजाय नकुल को क्यों चुना”

PARA – 11

Yudhishthira replied: “O Yaksha, ‘Dharma’ is the only shield of man and not Bhima and Arjuna, If ‘Dharma’ is given up, man will be ruined. Kunti and Madri were the two wives of my father. I am alive, a son of Kunti and so she in not completely bereaved. In order that scales of justice may be even. I ask that Maderi’s son, Nakula may revive.”

Translation – युधिष्ठिर ने उत्तर दिया, “अरे यक्ष धर्म ही इन्सान का सबसे बड़ा सुरक्षा कवच है भीम और अर्जुन नहीं | अगर धर्म को छोड़ दिया जाये तो इन्सान बर्बाद हो जायेगा | मेरे पिता की दो पत्नियाँ थीं कुंती और माद्री | मैं कुंती का पुत्र जीवित हूँ इसलिए वह पूरी तरह से संतानहीन नहीं हुई है | न्याय के लिए मैंने माद्री के पुत्र नकुल को जीवित करने के लिए कहा था |

PARA – 12

The Yaksha was most pleased with Yudhishthira’s impartiality and granted that all his brothers would come back to life.
It was Yama, the Lord of Death, who had taken the form of the Yaksh so that he might see Yudhishthira and test him. He embraced Yudhishthira and blessed him; then he disappeared.

Translation – युधिष्ठिर के निष्पक्ष उत्तर पर यक्ष बहुत प्रसन्न हुआ और उनके सभी भाइयों को जीवित कर दिया |

वह मौत के देवता यमराज थे, जिन्होंने युधिष्ठिर को देखने और उसका परीक्षा लेने के लिए यक्ष का रूप लिया था | उन्होंने युधिष्ठिर को गले लगाया और आशीर्वाद दिया, उसके बाद वह अदृश्य हो गए |

 

enchanted pool

 

tags – The Enchanted pool translation in Hindi | Class 10th थे एनचांटेड पूल समरी इन हिंदी | थे एनचांटेड पूल फुल स्टोरी इन हिंदी | थे एनचांटेड पूल स्टोरी इन हिंदी | the enchanted pool story in hindi | The Enchanted Pool Story in Hindi | रहस्यमयी तालाब | थे एनचांटेड पूल समरी इन हिंदी

4 thoughts on “Lesson 1 : The Enchanted Pool

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *